Radhe Movie Review: शानदार एक्शन और दमदार एक्टिंग, रणदीप हुड्डा का नेगेटिव अवतार जबरदस्त

Radhe Movie Review
Sponsored Links

Radhe Movie Review: शानदार एक्शन और दमदार एक्टिंग, रणदीप हुड्डा का नेगेटिव अवतार जबरदस्त

सलमान खान की अवेटिंग फिल्म राधे: योर मोस्ट वांटेड भाई OTT कंटेंट प्लेटफॉर्म और कुछ सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म का फैंस को बेसब्री से इंतजार था और रिलीज के बाद फैंस की ओर से सकारात्मक प्रतिक्रिया देखने को मिली। ईद के मौके पर रिलीज हुई इस फिल्म में जबरदस्त एक्शन और शानदार एक्टिंग देखने को मिली है। फिल्म में मेन विलेन की भूमिका निभा रहे रणदीप हुडा ने शानदार अभिनय किया है और इस अवतार में काफी खतरनाक नजर आ रहे हैं। इस फिल्म में उनकी एक्टिंग को काफी सराहना मिल रही है।

कैसी है राधे फिल्म की कहानी ?

इस फिल्म में सलमान खान एक पुलिस ऑफिसर राधे की भूमिका में नजर आ रहे हैं जिसका स्वैग एक गुंडे की तरह है। इसके अलावा रणदीप हुडा ड्रग माफिया राणा के किरदार में नजर आ रहे हैं जो अपने ड्रग बिजनेस को बढ़ाने के लिए मुंबई आया रहता है। वह मुंबई आते ही सबसे पहले उन लोगों को मारता है जिन्होंने उनके साथ धोखा किया होता है। इस फिल्म में राधे (सलमान खान) ड्रग माफिया राणा यानी रणदीप हुडा की तलाश में रहते हैं और अंत में उसे मारकर कहानी खत्म करते हैं।

Radhe Movie Review : शानदार एक्शन और दमदार एक्टिंग, रणदीप हुड्डा का नेगेटिव अवतार जबरदस्त

दरअसल मुंबई में ड्रग्स के बढ़ते कारोबार के कारण छोटे-छोटे बच्चे भी ड्रग्स के नशे में धुत्त रहने लगे थे। नशे के कारण कई बच्चों की जानें भी चली गई थी लेकिन पुलिस कुछ नहीं कर पा रही थी। यह ट्रक कहां से आ रहा था और कैसे बेचा जा रहा था इसके बारे में पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिल रही थी। इधर कम उम्र के बच्चों की लगातार मौतों से पुलिस प्रशासन पर दबाव बढ़ता जा रहा था।

ऐसे में इस ड्रग्स नेक्सस को जड़ से समाप्त करने के लिए गुंडे जैसी सोच रखने वाले पुलिस ऑफिसर को लाया गया। यह पुलिस ऑफिसर कोई और नहीं बल्कि राधे (सलमान खान) था। आप सभी ने 2009 में रिलीज हुई फिल्म वांटेड में राधे (सलमान खान) का किरदार जरूर देखा होगा। ठीक ऐसा ही किरदार उन्होंने इस फिल्म में भी निभाया है तो दर्शकों को काफी पसंद आ रहा है।

जब राधे (सलमान खान) को ड्रग नेक्सस को पूरी तरह से उखाड़ फेंकने की जिम्मेदारी दी जाती है तो वे अपने स्तर से इस काम में लग जाते हैं और मुंबई में जितने भी माफिया गैंग चलते रहते हैं उन सभी से अपने स्तर से पूछताछ करते हैं। सभी माफिया गैंग को मारपीट करके वे अपने तरफ मिला लेते हैं लेकिन फिल्म में मेन विलेन राणा की भूमिका निभा रहे रणदीप हुडा काफी खतरनाक रहते हैं। दोनों का एक बार सामना भी होता है और दोनों के बीच काफी मारपीट भी होती है लेकिन राणा (रणदीप हुडा) वहां से बच निकलता है। इस बीच वह एक लेडी पुलिस ऑफिसर निकिशा (मेघना आकाश) को चाकू मारकर घायल कर देता है।

लेकिन इस लड़ाई के बाद से वह राणा (रणदीप हुडा) को किसी भी तरह से दोबारा खोज निकालने के लिए तरह-तरह के पैंतरे अपनाने शुरू कर देते हैं और एक मीटिंग रखकर स्कूली बच्चों को राणा (रणदीप हुड्डा) और उनके साथ रहने वाले लोगों की फोटो दिखाते हैं और उनसे पुलिस का साथ देने के लिए करते हैं। इसके बाद जब भी वे स्कूली बच्चे राणा (रणदीप हुड्डा), उनके साथ रहने वाले गुर्गों या किसी ड्रग पैडलर को देखते हैं वह पुलिस को सूचित करते हैं। इसके बाद पुलिस उन्हें तुरंत जाकर रंगे हाथों पकड़ लेती है। इसी तरह से अंत में राणा (रणदीप हुड्डा) भी उनके हाथ लग जाता हैं। फिर राधे; राणा को मारकर कहानी का अंत कर देता है।

इस फिल्म में सलमान खान और रणदीप हुडा के अलावा जैकी श्रॉफ और दिशा पाटनी जैसे बड़े कलाकार भी नजर आ रहे हैं। फिल्म में जैकी श्रॉफ ने भी पुलिस ऑफिसर अविनाश अभ्यंकर का किरदार निभाया है जो राधे (सलमान खान) से सीनियर हैं और साथ ही साथ दिया अभ्यंकर (दिशा पाटनी) के बड़े भाई हैं। उन्होंने भी अपने किरदार से फ़िल्म में जबरदस्त तड़का लगाया है।

राधे फिल्म में दिशा पाटनी का क्या है किरदार ?

इस फिल्म में दिशा पाटनी एक फैशन डिजाइनर और मॉडल दिया अभ्यंकर का किरदार निभा रहीं हैं जो कहीं भी फैशन डिजाइनिंग या मॉडलिंग करती हुई नहीं दिखती हैं। वे समय-समय पर राधे (सलमान खान) से मिल जाती हैं और बाद में उसे प्यार करने लगती हैं। फिल्म के आधे समय तक में दिया (दिशा पाटनी) को यह नहीं पता होता है कि राधे (सलमान खान) एक पुलिस वाला है।

जब राधे की भिड़ंत राणा से होती है और उसे चोट लग जाती है तब वो यह जान पाती है कि राधे एक पुलिस ऑफिसर है। जबकि फिल्म के बीच में वह कहती है कि उसे पुलिस वालों से नफरत है। राधे फिल्म में कई बार उससे झूठ बोलता है कि वह एक स्ट्रगलिंग मॉडल है लेकिन फिर भी दिया जब यह जानती है कि राधे पुलिस वाला है, तो कोई भी रिएक्ट नहीं करती है। इस बात को हजम कर पाना काफी मुश्किल है।

फिल्म के दूसरे हाफ में कहानी पड़ गई है कमजोर

बहुत सारे फैंस का मानना है कि फिल्म के दूसरे हाफ में कहानी कमजोर पड़ गई है। दरअसल यह फिल्म OTT पर 1:49:33 मिनट की रिलीज की गई है। फिल्म के दूसरे हाफ़ में बहुत सारी घटनाएं इतनी जल्दी बीत जाती हैं कि लोगों को समझ नहीं आ पाता है कि आखिर फिल्म में क्या हो रहा है। फिल्म को छोटा बनाने के चक्कर में कुछ चीजों को जल्दी-जल्दी समाप्त कर दिया गया है, जो लोगों को अच्छा नहीं लग रहा है। फिल्म के पहले हाफ की कहानी काफी शानदार है और सभी चीजों को अच्छी तरह से पेश किया गया है लेकिन दूसरे हाफ में सभी चीजों को जल्दी-जल्दी समेट दिया गया है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*