कोरोना पर पीएम मोदी ने की सर्वदलीय बैठक, मीटिंग में अकाली दल नहीं हुए शामिल

कोरोना पर पीएम मोदी ने की सर्वदलीय बैठक, मीटिंग में अकाली दल नहीं हुए शामिल
कोरोना पर पीएम मोदी ने की सर्वदलीय बैठक, मीटिंग में अकाली दल नहीं हुए शामिल
Sponsored Links

कोरोना पर पीएम मोदी ने की सर्वदलीय बैठक, मीटिंग में अकाली दल नहीं हुए शामिल – मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी को लेकर सर्वदलीय बैठक की। इस बैठक में शिरोमणि अकाली दल की ओर से कोई भी नेता शामिल नहीं हुआ। इस बात पर पीएम मोदी ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि ऐसे मुद्दों पर राजनीति करना बेहद ही शर्मनाक है। मीटिंग में सांसदों से प्रधानमंत्री ने कहा कि इस महामारी में सब को सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि कोविड-19 के मामले एक बार फिर से देश भर में बढ़ने लगे हैं।

पीएम मोदी ने मानसून सत्र के दौरान मंगलवार को देर शाम लोकसभा एवं राज्यसभा के नेताओं के साथ बैठक की। इसमें उन्होंने कोरोना महामारी को लेकर सरकार की रणनीति के बारे में चर्चा की। अकाली दल के शामिल न होने पर उन्होंने कहा महामारी को राजनीति का विषय बना ना अच्छी बात नहीं है।

हालांकि कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल ने इस बैठक में शामिल ना होने का फैसला किया था। अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल का यह कहना है कि किसानों की लड़ाई को नजरअंदाज करने के बाद ही हमने इस बैठक में शामिल ना होने का फैसला किया है।

सभी हेल्थकेयर वर्कर्स को टीका न लगना चिंता की बात

बैठक में पीएम मोदी ने यह भी कहा कि टीकाकरण शुरू किए जा चुके हैं और अब तक इसके लगभग 6 महीने बीत चुके हैं लेकिन कुछ हेल्थ केयर एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स को अभी तक टीका नहीं लग पाया है जो की चिंता का विषय है। इस मामले में सभी राज्यों को सक्रिय रहने की आवश्यकता है।

पीएम मोदी ने सभी दलों के नेताओं से उनकी राय भी जानी और इसके लिए उन्हें धन्यवाद भी दिया। पीएम मोदी ने कहा कि देश के अलग-अलग जगहों से मिली जानकारी के अनुसार नीतियां बनाने में काफी मदद मिलती है। इस दौरान सभी को सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि एक बार फिर से देश भर में कोरोना के बढ़ने लगे हैं। ऐसे समय में सभी राज्यों एवं सभी पार्टी के नेताओं को राजनीति से ऊपर उठकर एक टीम की तरह काम करना जरूरी है।

विपक्ष की जीत- तृणमूल कांग्रेस

पहले या खबर मिली थी कि प्रधानमंत्री की मौजूदगी में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव कोरोना महामारी के हालातों पर सदन के नेताओं को जानकारी देंगे। लेकिन तृणमूल कांग्रेस के नेता इस बात पर अड़े रहे कि प्रधानमंत्री का जो भी बयान होगा वह संसद में होगा। इसके बाद खबर मिली है कि प्रधानमंत्री की मौजूदगी में स्वास्थ्य सचिव इस बैठक को संबोधित करेंगे। तृणमूल कांग्रेस सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने सरकार के इस फैसले को विपक्ष की जीत बताया।

पहले चर्चा फिर प्रेजेंटेशन- मल्लिकार्जुन खड़गे

राजसभा सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने यह कहा है कि पहले सरकार के साथ चर्चा होगी और इसके बाद सभी प्रेजेंटेशन किया जाएगा। यदि वे चर्चा नहीं चाहते हैं और सभी सांसदों को प्रेजेंटेशन देना है तो इसे सेंट्रल हाल में दे। यदि कोविड की वजह से सभी नेताओं को एक साथ एक जगह पर नहीं बैठाया जा सकता तो इसे 2 दिनों में बांटकर किया जा सकता है या फिर सुबह शाम किया जा सकता है।

सोमवार को 30,000 से भी कम लोग पाए गए कोरोना पॉजिटिव

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि देश में सोमवार को 29413 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इतना ही नहीं 45345 लोग रिकवरी हुए और 372 लोगों की मौत हुई। पिछले 125 दिनों में सोमवार को सबसे कम कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। इससे पहले 16 मार्च को 28869 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। वर्तमान समय में देश में 3.99 लाख कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज किया जा रहा है। पिछले 117 दिनों में यह सबसे कम सक्रिय केस हैं। इससे पहले 24 मार्च को भारत में 3.91 लाख सक्रिय केस थे।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*