यहां सिर्फ 50 हजार में मिल रही है 5.50 लाख की नई Swift dzire कारें, केवल युवाओं को मिलेंगी

Sponsored Links
क्या है सरकार का मकसद  :  सरकार की मानें तो वो गरीब ब्राह्मणों को कार इसलिए दे रही है, जिससे वो टैक्सी चलाकर अपना और अपने परिवार का गुजारा कर सकें। सरकार मुताबिक इस कार का प्रयोग युवा कैब के रुप में कर सकते हैं, और अपनी बेरोजगारी से छुटकारा पा सकेंगे। बता दें कि सरकार की ओर से डिजायर टूर का दी जाएगी, इसे केवल “परमिट वाहन” के रूप में बेचा जाता है जिसे केवल टैक्सी या टैक्सी के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। वे केवल पीले नंबर प्लेट के साथ पंजीकृत हो सकते हैं। बेरोजगार गरीब ब्राह्मण परिवारों को दी गई कार के उपयोग पर कोई विशेष पाबंदी नहीं है। युवकों को दी गई कार के उपयोग पर कोई विशेष पाबंदी नहीं है।
  • Topic:
मुख्यमंत्री नायडू अमरावती में बेरोजगार ब्राह्मण युवाओं के लिए 30 स्विफ्ट डिजायर कारों को हरी झंडी दिखाएंगे। यह कार राज्य सरकार की ओर से स्व-रोजगार कार्यक्रम के तहत बेरोजगार ब्राह्मण युवाओं को दी जाएंगी। अगर किसी युवा की नौकरी नहीं है तो ही वह मारुति की सेडान कार डिजायर को पाने के योग्य होगा। इसके लिए आंध्र प्रदेश ब्राह्मण कल्याण निगम की ओर से सब्सिडी दी जाएगी, जो कि अधिकतम 2 लाख रुपए होगी। इसके लिए लाभार्थी को कार की लागत का 10 प्रतिशत रकम देनी होगी।
बाकि राशि आंध्र प्रदेश ब्राह्मण सहकारी क्रेडिट सोसाइटी द्वारा मासिक किस्तों में देय ऋण के रूप में प्रदान की जाएगी। साफ शब्दों में कहे तो 10 प्रतिशत का भुगतान करने पर शेष राशि का ग्राहक को आंध्र प्रदेश ब्राह्मण सहकारी क्रेडिट सोसाइटी की ओर से ऋण दिया जाएगा। जिसकी किश्तों का भुगतान सरकार को हर महीने करना होगा। यानी महज 50 हजार रुपए देकर 5.50 लाख की कार ली जा सकेगी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*