Sponsored Links
महाभारत के युद्ध में भगवान कृष्ण ने अर्जुन के प्राणों को 4 बार बचाया था, आप भी जानें
जैसा कि हम सभी को मालूम है भगवान कृष्ण ने कठिन परिस्थितियों में पांडवों की रक्षा हमेशा की थी | ठीक इसी प्रकार महाभारत के युद्ध में भी भगवान श्री कृष्ण ने 4 बार अर्जुन के प्राणों की रक्षा की थी | वे अर्जुन के सारथी के रूप में विराजमान थे | आइये जानते हैं भगवान कृष्ण ने कैसे बचाया अर्जुन के प्राणों को|
१: युद्ध में यदि बर्बरीक ने भाग लिया होता तो अर्जुन ही नहीं बल्कि एक भी योद्धा शेष न बचे होते | इसी कारण भगवान कृष्ण ने बर्बरीक का मस्तक उपहार में मांग लिया और सभी के प्राणों की रक्षा की |

२: युद्ध में कर्ण और अर्जुन एक दुसरे के प्राणों के शत्रु बने हुए थे | तभी कर्ण ने सर्पमखास्त्र नामक बाणों से अर्जुन पर प्रहार कर दिया | ठीक उसी क्षण भगवान कृष्ण ने रथ का एक पहिया थोडा नीचे झुका दिया और यह बाण अर्जुन के मुकुट को छूता हुआ पार निकल गया |

३: कर्ण के पास अमोघ अस्त्र था जिसे इंद्र ने कर्ण को दिया था | कर्ण ने इसे अर्जुन के प्राण लेने के लिए बचा कर रखा था किन्तु युद्ध में परिस्थिति कुछ ऐसी बनी कि कर्ण को इस अमोघ बाण का प्रयोग घटोत्कच पर करना पड़ा और अर्जुन इसके प्रहार से बच गये |

४: युद्ध के अंत में कृष्ण ने सबसे पहले रथ से अर्जुन को उतरने के लिए कहा | अन्य दिनों में भगवान श्री कृष्ण पहले उतरा करते थे | अर्जुन के रथ से उतरने के बाद जैसे ही कृष्ण रथ से उतरे वह रथ तेज विस्फोट के साथ जल उठा | कृष्ण ने अर्जुन को बताया कि यह रथ तो कर्ण के प्रहारों के कारण पहले ही जल चुका था किन्तु इसे मैंने अपनी संकल्प शक्ति से बाँध रखा था | आगे भी ऐसी ही ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिए हमें फॉलो अवश्य करें |

Sponsored Links
News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *