पोस्ट ऑफिस एफडी : जानिए बैंक से कितना ज्यादा मिल रहा ब्याज

जैसे-जैसे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अपनी रेपो रेट घटाता जा रहा है, उसी तेजी से बैंकों की फिक्स डिपॉिजिट (एफडी) की ब्याज दरें कम होती जा रही हैं। लेकिन ऐसे में पोस्ट आफिस ऐसी जगह है, जहां एफडी पर अभी भी बहुत अच्छा ब्याज मिल रहा है। ऐसे में सभी के पास मौका है कि वह पोस्ट ऑफिस में पैसा जमा करके सबसे ज्यादा ब्याज कमाएं। वैसे भी देश में पैसा जमा करने के बाद सबसे ज्यादा सुरक्षित पोस्ट ऑफिस में होता है। क्योंकि पोस्ट ऑफिस में जमा पैसे की गारंटी भारत सरकार देती है। पोस्ट ऑफिस में चाहे जितना भी पैसा जमा हो, वह डूब नहीं सकता है। जबकि देश के बैंकों में जमा केवल 1 लाख रुपये ही सुरक्षित होता है। अगर किसी कारण से बैंक डूब जाता है, तो केवल जमाकर्ता का 1 लाख रुपये तक ही वापस मिलेगा। हाल ही में महाराष्ट्र में पीएमसी बैंक घोटाले की चपेट में आकर बंदी की कगार में है। अगर आरबीआई इस बैंक को दिवालिया घोषित कर देगा तो हर खाताधारक को अधिकतम उसके 1 लाख रुपये तक के जमा के बराबर का पैसा ही मिलेगा। अगर किसी का 1 लाख रुपये से ज्यादा का पैसा जमा है, तो वह डूब जाएगा।

कितना ज्यादा ब्याज

एसबीआई में की सबसे ज्यादा वाली एफडी एक साल से लेकर 2 साल की एफडी है, लेकिन पोस्ट ऑफिस की हर एफडी पर एसबीआई से ज्यादा ब्याज मिल रहा है। इसके अलावा अगर कोई 5 साल के लिए टाइम डिपॉजिट यानी टीडी अकाउंट में पैसा जमा करता है, तो उसकी इनकम टैक्स में छूट भी ले सकता है। इनकम टैक्स की यह छूट सेक्शन 80C के तहत मिलती है।

जानिए एसबीआई में अभी कितना मिल रहा है ब्याज

एसबीआई समय-समय पर अपनी एफडी का ब्याज बदलता रहता है। इस वक्त एसबीआई की एफडी की ब्याज दरें इस प्रकार हैं।

-7 दिन से लेकर 45 दिन तक तक पर 4.50 फीसदी

-46 दिन से लेकर 179 दिन तक पर 5.50 फीसदी

-180 दिन से लेकर 210 दिन तक 5.80 फीसदी

-211 दिन से लेकर 12 महीने तक 5.80 फीसदी

-12 महीने से लेकर 24 महीने तक 6.40 फीसदी

-24 महीने से लेकर 36 महीने तक 6.25 फीसदी

-36 महीने से लेकर 60 महीने तक 6.25 फीसदी

-60 महीने से लेकर 120 महीने तक 6.25 फीसदी

पोस्ट की एफडी यानी टाइम डिपाजिट (टीडी)

पोस्ट ऑफिस में एफडी को टाइम डिपॉजिट कहा जाता है। हालांकि जैसे बैंक में फिक्स डिपॉजिट को एफडी कहा जाता है वैसे ही पोस्ट ऑफिस में इस टाइम डिपॉजिट को टीडी कहा जाता है। आइये जानते हैं इसकी ब्याज दरें क्या हैं।

-पोस्ट ऑफिस की 1 साल की टाइम डिपॉजिट (टीडी) की ब्याज दर 6.9 फीसदी

-पोस्ट ऑफिस की 2 साल की टाइम डिपॉजिट (टीडी) की ब्याज दर 6.9 फीसदी

-पोस्ट ऑफिस की 3 साल की टाइम डिपॉजिट (टीडी) की ब्याज दर 6.9 फीसदी

-पोस्ट ऑफिस की 4 साल की टाइम डिपॉजिट (टीडी) की ब्याज दर 6.9 फीसदी

-पोस्ट ऑफिस की 5 साल की टाइम डिपॉजिट (टीडी) की ब्याज दर 7.7 फीसदी

नोट : पोस्ट ऑफिस में हर तीन माह पर ब्याज दरें की समीक्षा होती है और बदलाव भी किया जा सकता है। फिलहाल यह ब्याज दरें 1 जुलाई 2019 से लागू हैं।

पोस्ट ऑफिस में टीडी करने के नियम

-पोस्ट ऑफिस में टीडी अकाउंट कोई भी खोल सकता है। 

-यह अकाउंट कैश या चेक के माध्यम से खोला जा सकता है/

-इस टीडी अकाउंट में मिलती है नॉमिनेशन की सुविधा।

-यह टीडी अकाउंट एक पोस्ट ऑफिस से देश के किसी भी दूसरे पोस्ट ऑफिस में ट्रांसफर कराया जा सकता है।

-नाबालिग के नाम भी टीडी अकाउंट खोला जा सकता है।

-लोग अगर चाहें तो संयुक्त नाम से भी टीडी अकाउंट खोल सकते हैं।

-अगर कोई 5 साल के लिए टीडी अकाउंट में पैसा जमा करता है तो उसकी इनकम टैक्स में छूट भी ले सकता है। इनकम टैक्स की यह छूट सेक्शन 80C के तहत मिलती है।

सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम

पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम में इस वक्त 8.6 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। इस स्कीम में 60 साल या इससे अधिक की उम्र के वरिष्ठ नागरिक निवेश कर हर माह नियमित कमाई कर सकते हैं। स्कीम के तहत जमा पर ब्याज तिमाही आधार पर ब्याज मिलता है। इस स्कीम में अधिकतम निवेश की सीमा 15 लाख रुपये है। 

सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना पर इस समय 8.4 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। स्कीम को एक्जेम्प्ट-एक्जेम्प्ट-एक्जेम्प्ट (ईईई) का टैक्स दर्जा दिया गया है। इसके हिसाब से इस योजना में निवेश पर, उसका ब्याज और बाद में मिलने वाला पैसा पूरी तरह टैक्स फ्री होता है। माता-पिता बेटी के 10 साल का होने तक उसके लिए यह खाता खुलवा सकते हैं। बेटी के 21 साल का होने पर मैच्योरिटी की रकम का भुगतान किया जाता है। 

पांच साल की एनएससी

नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट्स (एनएससी) में इस समय 7.9 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। इस स्कीम में पैसा 5 साल के लिए लॉक-इन रहता है। स्कीम में निवेश या तो अकेले, साथ में या नाबालिग की ओर से किया जा सकता है। इस स्कीम में निवेश पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (एमआईएस)

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (एमआईएस) में इस समय 7.6 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। इस स्कीम में निवेश के बाद हर माह ब्याज का भुगतान किया जाता है। 10 साल से अधिक की उम्र का कोई भी स्कीम में निवेश कर सकता है। इस स्कीम की अवधि 5 साल की है।

किसान विकास पत्र (केवीपी)

किसान विकास पत्र (केवीपी) पर इस समय 7.6 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है। इस स्कीम में निवेश के बाद पैसा दोगुना हो जाता है। इस स्कीम में इस समय 113 महीने में पैसा दोगुना हो जाता है। 113 महीने का मतलब है कि 9 साल 5 महीने। अगर कोई चाहता है कि उसका पैसा दोगुना हो जाए तो उसके लिए केवीपी में निवेश सबसे अच्छा माना जाता है।

Sponsored Links

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*